कड़कने और गरजने पर

dua-garajne-or-kadakne-per

कड़कने और गरजने पर

जब कड़कने और गरजने की आवाज़ सुने तो यह पढ़े

अल्लाहम-म ला तक़्तुलना बि ग़-ज़-बि-क व ला तुहलिलना बि अज़ाबि-क  आफ़िना क़ब्-ल-ज़ालिक०

तर्जुमा- ऐ अल्लाह! हम को अपने ग़ज़ब से क़त्ल न फ़रमा और अपने अज़ाब से हमें हलाक न कर और इस से पहले हमें चैन दे। -तिर्मिज़ी

जब आंधी आये तो उसकी तरफ मुंह करे और दो ज़ानू यानी तशह्हुद की हालत की तरह बैठ कर यह पढ़े

अल्लाहुम-मज-अलहा रहमतव व ला तज-अल-हा अज़ाबन अल्लाहुम-मज-अल-हा रियाहंव व ला तज-अल-हा रीहन०

तर्जुमा- ऐ अल्लाह! इसे रहमत बना और इसे अज़ाब न बना। ऐ अल्लाह! इसे नफ़ा वाली हवा बना और नुक़्सान वाली हवा न बना। -हिस्न हसीन

फ़ायदा- अगर आंधी के साथ अंधेरा भी हो (जिसे काली आंधी कहते हैं) तो सूरः कुल अऊजु बिरब्बिल फ़-ल-क़ि और कुल अऊजु बिरब्बिन्नासि पढ़े -मिश्कात

यह सामग्री “Masnoon Duain with Audio” ऐप से ली गई है आप यह एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे अन्य इस्लामिक एंड्रॉइड ऐप और आईओएस ऐप देखें।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published.