छींक आने पर

chheenk-aane-par

छींक आने पर

जब छींक आये तो यों कहे

अल् हम्दु लिल्लाह

तर्जुमा- सब तारीफें अल्लाह के लिए हैं।

इस को सुन कर दूसरा मुसलमान यों कहे

यरहमुकल्लाह

तर्जुमा- अल्लाह तुम पर रहम करे।

इसके जवाब में छींकने वाला यों कहे

यहदीकुमुल्लाहु व युस्लिहु बालकुम०

तर्जुमा- अल्लाह तुम को हिदायत पर रखे और तुम्हारा हाल संवार दे। -मिश्कात

जिसे छींक आती हो अगर वह औरत हो, तो जवाब देने वाला –यर्हमुकिल्लाह क पर इ की मात्रा के साथ कहे।

फ़ायदा- अगर छींकने वाला ‘अल् हम्दु लिल्लाह’ न कहे तो उसके लिए यहमुकल्लाह कहना वाजिब नहीं है और अगर अल्-हम्दु लिल्लाह कहे तो वाजिब है। फ़ायदा-छींकने वाले को जुकाम हो या और कोई तक्लीफ़ हो, जिससे छींकें आती ही चली जाएं, तो दो-तीन बार के बाद जवाब देना ज़रूरी नहीं। -मिश्कात

यह सामग्री “Masnoon Duain with Audio” ऐप से ली गई है आप यह एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे अन्य इस्लामिक एंड्रॉइड ऐप और आईओएस ऐप देखें।

Share this: