पैगंबर इलियास अलैहिस्सलाम की कहानी

paigamber-iliyaas-alihissalam-ki-kahani

पैगंबर इलियास अलैहिस्सलाम की कहानी

इलियास (अ.स) (अंग्रेज़ी:Elijah) क़ुरआन में वर्णित अरबी में नबी का नाम है। इनका दो सूरहों में उल्लेख है। इस्लाम धर्म की महत्वपूर्ण पुस्तक क़िसासुल अंबिया और ऐतिहासिक पुस्तकों के अनुसार हज़रत इलियास (अ.स) को मूसा (अ.स) के बाद भेजा गया था। आमतौर पर यह माना जाता है कि उन्हें सीरिया के लोगों का मार्गदर्शन करने के लिए भेजा गया था।

मुसलमान मानते हैं कि आप हमेशा जीवित रहेंगे और जमीन पर लोगों का मार्गदर्शन करेंगे।जैसे हज़रत खिजर को मार्गदर्शन करने का जिम्मा सौंपा गया है।

हज़रत इलियास (अ.स) कौन थे।

वह इलियास ए-नशाबी थे। ऐसा कहा जाता है कि वह यासीन इब्न फन्हास इब्न अल-इज़र इब्न हारून के बेटे थे। उन्हे बल के लोगों के पास दमिश्क के पश्चिम में भेज गया था। उन्होंने उन्हें अल्लाह तआला की इबादत करने के लिए बुलाया, और उन्होंने उन पर जोर दिया कि वे अपने बुतों की इबादत को छोड़ दें,  जिसका नाम उन लोगो ने बाल रखा था।

उनके लोगों ने उनकी एक न सुनी। उन्होंने उन पर विश्वास करने से ओर अल्लाह तआला पे ईमान लाने से इनकार कर दिया।

अहाब इस्राएल का नया राजा था। वह इस्राएल के सबसे दुष्ट शासकों में से एक था। उसने और उसकी दुष्ट पत्नी ईज़ेबेल ने मूर्तियों के साथ मंदिर बनाना शुरू किया और बाल नाम की एक मूर्ति की पूजा करना शुरू कर दिया, जिसके बारे में कहा जाता है कि यह 4 चेहरों वाली 13.6 मीटर लंबी है।

सारा राज्य शैतान के जाल में फँस गया और पथभ्रष्ट हो गया। वे सब शिर्क का पालन करते थे, मूर्तियों की पूजा करने लगे, और कुछ को छोड़कर बुरे काम करने लगे। जिन लोगों ने पैगंबर और अल्लाह की अवज्ञा करने से इनकार कर दिया, उन्हें गंभीर रूप से प्रताड़ित किया गया और मौत की सजा दी गई।

पैगंबर इलियास अलैहिस्सलाम ने उन्हें सच्चाई की ओर बुलाने की पूरी कोशिश की, उन्हें शिर्क (मूर्तियों की पूजा) करने से मना किया, और उन्हें अल्लाह की पीड़ा से चेतावनी दी। उसने उन्हें यह समझाने की बहुत कोशिश की कि उनकी मूर्तियाँ असहाय और शक्तिहीन हैं लेकिन अविश्वासियों ने उनकी शिक्षाओं पर ध्यान नहीं दिया।

इलियास अलैहिस्सलाम ने मदद के लिए अल्लाह से पूछा और अज्ञानियों को दंडित करने के लिए प्रार्थना की और अल्लाह ने उनकी प्रार्थनाओं का उत्तर दिया। अहाब का पूरा राज्य अकाल के अधीन आ गया जो तीन लंबे वर्षों तक जारी रहा। लोग अकाल से मर रहे थे और लगातार बाल से मदद की प्रार्थना कर रहे थे। जब बाल ने कुछ भी मदद नहीं की और लोगों ने खुद को भूख से पीड़ित और मरते हुए पाया, तो उन्होंने अपने पिछले कर्मों पर खेद व्यक्त किया और पैगंबर इलियास से बारिश के लिए अल्लाह से प्रार्थना करने और अकाल को समाप्त करने के लिए कहा।

इलियास अलैहिस्सलाम ने प्रार्थना की, अल्लाह ने उनकी प्रार्थनाओं को स्वीकार किया और बारिश हुई, लोगों को अंतहीन अकाल से राहत मिली और इलियास अलैहिस्सलाम के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया।

हालाँकि, लोग सब कुछ भूल गए और अपने अविश्वास और मूर्ति पूजा में लगे रहे।

जब इलियास अलैहिस्सलाम ने उनकी अज्ञानता देखी, तो ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने अल्लाह से अपनी मृत्यु के लिए कहा और अल्लाह ने उन्हें आग के रथ पर आसमान पर चढ़ा दिया। और अल्लाह बेहतर जानता है।

इलियास (अ.स) का ज़िकर क़ुरान में:

और इसमें शक नहीं कि इलियास यक़ीनन पैग़म्बरों में से थे

जब उन्होंने अपनी क़ौम से कहा कि तुम लोग (ख़ुदा से) क्यों नहीं डरते

क्या तुम लोग बाल (बुत) की परसतिश करते हो और खु़दा को छोड़े बैठे हो जो सबसे बेहतर पैदा करने वाला है

और (जो) तुम्हारा परवरदिगार और तुम्हारे अगले बाप दादाओं का (भी) परवरदिगार है

तो उसे लोगों ने झुठला दिया तो ये लोग यक़ीनन (जहन्नुम) में गिरफ्तार किए जाएँगे

मगर खु़दा के निरे खरे बन्दे महफूज़ रहेंगे

और हमने उनका जि़क्र ख़ैर बाद को आने वालों में बाक़ी रखा

कि (हर तरफ से) आले यासीन पर सलाम (ही सलाम) है

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published.