पैगंबर नूह अलैहिस्सलाम की कहानी

Noah's Ark

पैगंबर नूह अलैहिस्सलाम की कहानी

हज़रत नूह अलैहिस्सलाम कौन थे

हज़रत नूह (अ.स.) हज़रत इदरीस (अ.स.) की तीसरी पुश्त में पैदा हुए, हज़रत नूह (अ.स.) और हज़रत आदम (अ.स.) के बीच एक हज़ार तीन सौ पचास साल का ज़माना बयान किया जाता है।

कुरान शरीफ में आपका नाम 41 जगाह आया है।

हज़रत नूह (अ.स.) ने सब से पहले अल्लाह के हुकुम के मुताबिक अपनी उम्मत के लिए नमाज़ के वक़्त पक्का किया।

नूह (अ.स.) की कौम, दावत व तब्लीग़ और क़ौम की नाफ़रमानी

हजरत नूह अलैहि सलाम के नबी बनाए जाने से पहले तमाम कौम अल्लाह की तौहीद और सही मज़हबी रोशनी से पूरी तरह अनजान बन चुकी थी और हकीकी माबूद की जगह ख़ुद के गढे हुए बुतों ने ले ली थी। गैरुल्लाह और बुतों की पूजा उनका शिआ्र था। आख़िर अल्लाह की सुन्नत के मुताबिक़ उनके रुश्द व हिदायत के लिए भी उन ही में से एक हादी और अल्लाह के सच्चे रसूल नूह (अ.स.) को मबूऊस किया गया। हज़रत नूह अलैहिस सलाम ने अपनी क़ौम को राहे हक़ की तरफ पुकारा और सच्चे मज़हब की दावत दी लेकिन क़ौम ने न माना और नफ़रत व हिक़ारत के साथ इंकार किया।

क़ौम के अमीरों और सरदारों ने उनके झुठलाने और उन्हें ज़लील करने का कोई पहलू न छोड़ा और उनके (अमीरों और सरदारों के मानने वालों ने उन्हीं की पैरवी के सबूत में हर क़िस्म की तौहीन के तरीक़ों को हज़रत नूह अलैहिस सलाम पर आज़माया। उन्होंने इस बात पर ताज्जुब ज़ाहिर किया कि जिसको न हम पर धन-दौलत में बरतरी हासिल है और न वह इंसानियत के रुतबे से बूलन्द ‘फ़रिश्ता हैकल’ है, उसको क्या हक़ है कि वह हमारा पेशवां बने और हम उसके हुक्मों को मानें?

वे क़ौम के गरीब और कमज़ोर लागों को जब हज़रत नूह अलैहि सलाम के पीछे चलने वाले और पैरवी करने वाले देखते तो घमंड भरे अन्दाज़ में ज़लील समझ कर कहते, ‘हम इनकी तरह हैं कि तेरे फ़रमान पर चलने लगें और तुझको अपना सरदार मान लें कि जिसकी पैरवी की जाए।‘ वे समझते थे कि कमजोर और पस्त लोग नूह (अ.स.) के अंधे मुकल्लिद हैं, न इनके पास कोई समझ है और न ये हमारी तरह जांची, परखी राय से काम लेते और न इतना शऊर है कि हक़ीकते हाल को समझ लेते और अगर वे हज़रत नूह अलैहि सलाम की बात की तरफ कभी तवज्जो भी देते, तो उनसे इसरार करते कि पहले इन कौम के पस्त और ग़रीब लोगों को अपने पास से निकाल दे, तब हम तेरी बात सुनेंगे, क्योंकि हमकों इनसे घिन आती है और हम और ये एक जगह नहीं बैठ सकते।

हज़रत नूह अलैहि सलाम इसका एक ही जबाब देते कि ‘ऐसा कभी नहीं होगा, क्योंकि ये अल्लाह के मुख्लिस बन्दे हैं अगर मैं इनके साथ ऐसा मामला करू जिसकी तुम ख़्वाहिश रखते हो, तो अल्लाह के अजाब से मेरे लिए कोई पनाह नहीं है। मै उसके दर्दनाक अज़ाब से डरता हूं; उसके यहां इख़्लास की कद्र है। अमीर व ग़रीब का वहां कोई सवाल नहीं है। साथ हीं इर्शाद फ़रमाते कि ‘मैं तुम्हारे पास अल्लाह की हिदायत का पैग़ाम लेकर आया हूं, न मैं ने गैबदानी का दावा किया है और न फ़रिश्ता होने का। अल्लाह का बरगज़ीदा पैगम्बर और रसूल हूं और दावत व इर्शाद मेरा मकसद है। उसको सरमायादाराना बुलन्दी, गैबदानी या फ़रिश्ता हैकल होने से क्‍या वास्ता? क़ौम के ये कमज़ोर और ग़रीब लोग, जो अल्लाह पर सच्चे दिल से ईमान लाए हैं, तुम्हारी निगाह में इसलिए हक़ीर व जलील हैं कि वे तुम्हारी तरह धन-दौलत वाले नहीं हैं और इसीलिए तुम्हारे ख्याल में ये न खैर हासिल कर सकते हैं और न सआदत, क्योंकि ये दोनों चीज़ें दौलत व हश्मत के साथ हैं, न कि गरीबी और इखलास के साथ।

सो वाजेह रहे कि अल्लाह की सआदत व खैर का क़ानून जाहिरी दौलत व हश्मत के ताबे नहीं है और न उसके यहां सआदत और हिदायत का हासिल करना और पाना सरमाए की रौनक के असर में है, बल्कि इसके ख़िलाफ़ नफ़्स का इत्मीनान, अल्लाह की रिज़ा, क़ल्ब का गिना और नियत व अमल के इख्लास पर मौक़ूफ़ है।

हज़रत नूह अलैहि सलाम ने यह भी बार-बार तंबीह की कि मुझे अपनी दावत पहुंचाने में और हिदायत के रास्ते पर लगाने में न तुम्हारे माल की ख्वाहिश है, न जाह व मंसब की, मैं उजरत का तलबगार भी नहीं हूं। इस ख़िलाफ़त का हक़ीक़ी अज्र व सवाब अल्लाह तआला के हाथ में है और वही बेहतरीन कद्र करने वाला है।

बहरहाल हज़रत नुह अलैहि सलाम ने इंतिहाई कोशिश की कि बदबख्त क़ौम समझ जाए और अल्लाह की रहमतों की पनाह में आ जाए, मगर कौम ने न माना और जितना इस ओर से हक़ की तब्लीग में जद्दोजहद हुई, उसी क़दर क़ौम की ओर से बुग्ज़ और दुश्मनी में सरगर्मी जाहिर की गई और तकलीफ पहुंचाने और चोट देने के तमाम तरीक़ों का इस्तेमाल किया गया। और उनके बड़ों ने आम लोगों से साफ़-साफ़ कह दिया कि तुम किसी तरह वुद्द, सुवाअ, यगूस और नस्र जैसे बुतों की पूजा को न छोड़ों और आख़िर में तंग आकर कहने लगे:

“ऐ नूह! तूने हमसे झगड़ा किया और बहुत झगड़ा किया; अब उसको ख़त्म कर और जो तूने हमसे (अल्लाह के अजाब) का वायदा किया है, वह ले आ।“[हूद ११:३२]

हज़रत नूह अलैहि सलाम ने यह सुनकर जवाब दिया:

‘नुह ने कहा, ज़रूर, अगर अल्लाह चाहेगा तो उस अज़ाब को भी ले आएगा और तुम उसको थका देने वाले नहीं हो।“[हूद ११:३३]

इस तरह जब कौम की हिदायत से पहले हज़रत नूह अलैहि सलाम बिल्कुल मायूस हो गए और उसकी बातिलपरस्ती, जिद और हथधर्मी उन पर वाज़ेह हो गई और कुरआन के मुताबिक़ साढ़े नौ सौ साल तक बराबर की जा रही दावत व तब्लीग़ का उन पर कोई असर नहीं देखा गया तो बहुत ज़्यादा मलूल और परेशान-ख़ातिर हुए, तब अल्लाह तआला ने उनको तसल्ली के लिए फ़रमाया:

“और नूह पर वही की गई कि जो ईमान ले आए, वह ले आए, अब इनमें से कोई ईमान लाने वाला नहीं है. पस उनकी हरकतों पर ग़म न कर।“ [हूद ११:३६]

तब हजरत नूह अलैहि सलाम को यह मालूम हो गया कि उनके हक़ पहुंचाने में कोताही नहीं है, बल्कि ख़ुद न भानने वालों की इस्तेदाद का कसूर है और उनकी सरकशी का नतीजा। तब उन के आमाल और हरकतों का असर कुबूल करके अल्लाह तआला की बारगाह में दुआ फ़रमाई।

नाव की बुनियाद

अल्लाह ने हज़रत नूह अलैहि सलाम की दुआ कुबूल फ़रमाई और बदले के क़ानून और आमाल के मुताबिक़ सरकशों की हलाकत का एलान कर दिया। पहले हज़रत नूह अलैहि सलाम को हिदायत फ़रमाई कि वह एक नाव तैयार करें, ताकि ज़ाहिरी अस्बाब के एतबार से वह और पक्‍के मोमिन उस अजाब से बचे रहें, जो अल्लाह के नाफ़रमानों पर नाज़िल होने वाला है।

हज़रत नूह अलैहि सलाम ने जब नाव बनानी शुरू की, तो कुफ़्फ़ार ने हँसी उड़ाना और मज़ाक़ बनाना शुरू कर दिया और जब कभी उधर से उनका गुज़र होता तो कहते कि ‘खूब! जब हम डूबने लगें तो तुम और तुम्हारे पीछे चलने  वाले इस नाव में महफूज़ रहकर नजात पा जाएंगे। कैसा मूर्खता वाला ख्याल है?‘

हज़रत नूह अलैहि सलाम भी उनको अंजामेकार से ग़फ़लत और अल्लाह की नाफ़रसानी पर जुर्रत देखकर उन ही के ढंग से जवाब देते और अपने काम में लगे रहते, क्योंकि अल्लाह तआला ने पहले ही उनकी हक़ीक़ते हाल को बता दिया था।

आख़िर नूह की नाव बनकर तैयार हो गई अब अल्लाह के वायदे (अजाब) का वक़्त क़रीब आया; और हज़रत नूह अलैहि सलाम ने उनकी पहली निशानी को देखा, जिसका जिक्र उनसे किया गया था, यानी धरती के नीचे से पानी का चश्मा उबलना शुरू हुआ, तब अल्लाह की वह्य ने उनको हुक्म सुनाया कि नाव में अपने खानदान वालों को बैठने का हुक्म दो और तमाम जानदारों में से हर एक का एक जोड़ा नाव में पनाह लें और छोटी जमाज़त (लगभग चालीस लोग) भी, जो तुम पर ईमान ला चुकी है, नाव में सवार हो जाए। जब अल्लाह की वत्य की तमिल की गई तो अब आसमान को हुक्म हुआ कि पानी बरसना शुरू हो और धरती के सोतों को हुक्म दिया गया कि वे पूरी तरह उबल पड़ें। अल्लाह के हुक्म से जब यह सब कुछ होता रहा, तो नाव भी उसकी हिफ़ाज़त में पानी पर एक मुद्दत तक तैरती रही, यहां तक कि तमाम इंकार करने वाले और दुश्मन डूब गए और अल्लाह तआला के क़ानून ‘जज़ा व आमाल’ के मुताबिक़ अपने किए को पहुंच गए।

जूदी पहाड़ (अज़ाब का ख़त्म होना)

ग़रज जब अल्लाह के हुक्म से अज़ाब ख़त्म हुआ तो नूह अलैहि सलाम की नाव जूदी पर ठहर गई।

पानी धीरे-धीरे सूखना शुरू हो गया और नाव में पनाह लेने वालों ने दूसरी बार अम्न व सलामती के साथ अल्लाह की जमीन पर क़दम रखा। इसी वजह से हज़रत नूह अलैहि सलाम का लक़ब ‘अबुल बशर सानी‘ या ‘आदमे सानी‘ (यानी इंसानों का दूसरा बाप) और शायद इसी एतबार से हदीस में उनको ‘अव्वलुरुसुल” कहा गया। (जिस इंसान पर अल्लाह की वह्य नाजिल होती है, वह “नबी” और जिसको नई शरीअत भी अता की गई हो, वह ‘रसूल‘ है। रसूल नबी भी होता है, मगर नबी का रसूल होना ज़रूरी नहीं) जहां तक जूदी पहाड़ की जगह का ताल्लुक़ है, तो क़ुरआन ने सिर्फ़ उस जगह का तज़्किरा किया है, जहां नाव जाकर ठहरी थी अलबत्ता तौरात की शरह लिखने वालों का ख़्याल है कि जूदी पहाड़ के उस सिलसिले का नाम है जो अररात और जॉर्जिया के पहाड़ी सिलसिले को आपस में मिलाता है।

नूह अलैहि सलाम का बेटा

तारीख़ के माहिरों ने हज़रत नूह अलैहि सलाम के इस बेटे का नाम कनआन बताया है, यह तौरात की रिवायत के मुताबिक़ है। कुरआन उसका नाम बताने से ख़ामोंश है, जो नफ़्से वाकया के लिए गैर ज़रूरी था अलबत्ता हज़रत नूह अलैहि सलाम का उस बेटे से ख़िताब और उसके जवाब का ज़िक्र किया गया है:

और वह (नाव) उन्हें लिए हुए पहाड़ों जैसी ऊँची लहर के बीच चल रही थी। नूह ने अपने बेटे को, जो उससे अलग था, पुकारा, “ऐ मेरे बेटे! हमारे साथ सवार हो जा। तू इनकार करनेवालों के साथ न रह।”

उसने कहा, “मैं किसी पहाड़ से जा लगूँगा, जो मुझे पानी से बचा लेगा।” कहा, “आज अल्लाह के आदेश (फ़ैसले) से कोई बचानेवाला नहीं है सिवाय उसके जिस पर वह दया करे।” इतने में दोनों के बीच लहर आ पड़ी और डूबनेवालों के साथ वह भी डूब गया।

और कहा गया, “ऐ धरती! अपना पानी निगल जा और ऐ आकाश! तू थम जा।” अतएव पानी तह में बैठ गया और फ़ैसला चुका दिया गया और वह (नाव) जूदी पर्वत पर टिक गई औऱ कह दिया गया, “फिटकार हो अत्याचारी लोगों पर!”

नूह ने अपने रब को पुकारा और कहा, “मेरे रब! मेरा बेटा मेरे घरवालों में से है और निस्संदेह तेरा वादा सच्चा है और तू सबसे बड़ा हाकिम भी है।”

कहा, “ऐ नूह! वह तेरे घरवालों में से नहीं, वह तो सर्वथा एक बिगड़ा काम है। अतः जिसका तुझे ज्ञान नहीं, उसके विषय में मुझसे न पूछ, तेरे नादान हो जाने की आशंका से मैं तुझे नसीहत करता हूँ।”  [हूद 11:42-46]

बहरहाल कनआन हज़रत नूह का बेटा था, मगर उस पर हज़रत नूह अलैहि सलाम की हिदायत व रुश्द की जगह अपनी काफ़्रिर वालिदा की तर्बियत की गोद ने और ख़ानदान और कौम के माहौल ने बुरा असर डाला और वह नबी का बेटा होने के बावजूंद काफ़िर ही रहा। और तूफान में गर्क हो गया।

हज़रत नूह अलैहि सलाम की उम्र

कुरआन मजीद ने साफ़ कहा है कि हज़रत नूह अलैहि सलाम ने अपनी कौम में साढ़े नौ सौ साल तब्लीग व दावत का फ़र्ज़ अंजाम दिया।

यह उम्र मौजूदा तबई उम्र के एतबार से अक़्ल से परे मालूम होती है, लेकिन मुहाल और नामुम्किन नहीं है, इसलिए कि कायनात के शुरू के दिनों में ग़मों, फ़िक्रों और मरज़ों की यह बहुतात नहीं थी, साथ ही पुरानी तारीख़ भी मानती है कि कुछ हज़ार साल पहंले की तबई उम्र का तनासुब मौजूदा तनासुब से बहुत ज़्यादा था। हज़रत नूह अलैहिस सलाम की तबई उम्र का मामला भी इसी क़िस्म के अपवाद में से समझना चाहिए जो अंबिया अलैहिस सलाम की तारीख़ में अल्लाह की आयत और उसकी निशानी की फेहरिस्त में गिनी जाती है और जिनकी हिक्मत का मामला ख़ुद अल्लाह तआला के सुपुर्द है।

कुरआन मजीद में हजरत नूह अलैहि सलाम का जिक्र अठाईस सूरतों में तेंतालीस जगह आया है।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published.