महबूब चीज़ देखने पर दुआ

kuch-gum-hone-per---mahboo-cheez-dekhne-per

महबूब चीज़ देखने पर दुआ

जब अपनी कोई महबूब चीज़ देखे, तो यह पढ़े

अल् हम्दु लिल्लाहिल्लज़ी बि नि अमति ही ततिम्मुस्सालिहातु०

तर्जुमा- सब तारीफ़ अल्लाह के लिए है, जिसकी नेमत से अच्छी चीजें मुकम्मल होती हैं। -इब्ने माजा

कुछ गुम होने पर दुआ

कोई चीज़ गुम हो जाये, गुलाम या जानवर भाग जाए, तो यह पढ़े

अल्लाहुम-म राद्दज्जाल्लति व हादिय-ज्जाल्लति, अन-त तह्दी मिनज्ज़लालति उर्दू अलय-य ज़ाल्लती बिकुदरति-क व सुल्तानि-क फ़ इन्नहा मिन अताइ-क व फ़ज़लि-क०

तर्जुमा- ऐ अल्लाह! ऐ गुमशुदा को वापस करने वाले! और राह भटके हुए को राह दिखाने वाले! तू ही गुमशुदा को राह बताता है, अपनी कुदरत और गालबियत के ज़रिए मेरी गुमशुदा चीज़ को वापस कर दे, क्योंकि वह बेशक तेरी अता तेरे फ़ज़्ल से मुझे मिली थी। -हिस्ने हसीन

यह सामग्री “Masnoon Duain with Audio” ऐप से ली गई है आप यह एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे अन्य इस्लामिक एंड्रॉइड ऐप और आईओएस ऐप देखें।

Share this: