रात को पढ़ने की चीजें

raat-ko-padhne-ki-chege

रात को पढ़ने की चीजें

1. हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसऊद रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फ़रमाते हैं कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाह अलैहि व सल्लम ने इर्शाद फ़रमाया कि जो शख़्स हर रात में सूरः वाक़िया (पारा 27) पढ़ लिया करे, उसे कभी फ़ाक़ा न होगा। -बैहक़ी

2. हज़रत उस्मान रज़ियल्लाहु तआला अन्ह फ़रमाते हैं कि जो शख़्स आले इम्रान की आयतें इन-न फ़ी ख़ल्क़िस्समावाति वल अर्ज़ि, से आख़िर सूरः तक किसी रात को पढ़ ले तो उसे रात भर नमाज़ पढ़ने का सवाब मिलेगा। -मिश्कात

3. हज़रत जाबिर रज़ियल्लाहु तआला अन्ह फ़रमाते हैं कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम रात को जब तक सूरः अलिफ़-लाम-मीम सज्दा, जो 21 वें पारे में है और सूरः तबारकल्लज़ी बियदि-हिल मुल्कु (पारा 29) न पढ़ लेते थे, उस वक़्त तक न सोते थे। -तिर्मिज़ी वगैरह

4. और इसी सूरः तबारकल्लज़ी के बारे में आपने फ़रमाया कि एक शख्स की सिफ़ारिश करके उसने बख़्शवा दिया। -मिश्कात

5. हज़रत अब्दुल्लाह बिन मस्ऊद रज़ियल्लाहु तआला अन्ह से रिवायत है कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने इर्शाद फ़रमाया कि सूरः बक़रः की आखिरी दो आयतें (आ-म-नर्रसल से सूरः के ख़त्म तक) जो शख्स किसी रात को पढ़ लेगा, तो ये दोनों आयतें उसके लिए काफ़ी होंगी, यानी वह हर बुराई और ना-पसंदीदा बात से बचा रहेगा। -बुख़ारी व मुस्लिम

यह सामग्री “Masnoon Duain with Audio” ऐप से ली गई है आप यह एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे अन्य इस्लामिक एंड्रॉइड ऐप और आईओएस ऐप देखें।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published.