सफ़र को चलते वक़्त​

safar ko chalte waqt dua

सफ़र को चलते वक़्त

जब सफ़र को रवाना होने लगे, तो यह पढ़ें

तर्जुमा- ऐ अल्लाह! हम तुझसे इस सफ़र में नेकी और परहेज़गारी का सवाल करते हैं और उन आमाल का सवाल करते हैं, जिनसे आप राज़ी हों। ऐ अल्लाह! हमारे इस सफ़र को हम पर आसान फ़रमा दे और इस का रास्ता जल्दी-जल्दी तय करा दे। ऐ अल्लाह! तू सफ़र में हमारा साथी है और हमारे पीछे घर-बार का कारसाज है। ऐ अल्लाह! मैं तेरी पनाह चाहता हूं सफ़र की मशक़्क़त और घर-बार में बुरी वापसी से और बुरी हालत के देखने से और बनने के बाद बिगड़ने से और मज़लूम की बद-दुआ से।

फ़ायदा- सफ़र को रवाना होने से पहले अपने घर में दो रक्अत नमाज़ नफ़्ल पढ़ना भी मुस्तहब है। -किताबुल अज़्कार (नबवी) 

फ़ायदा- जब बुलंदी पर चढ़े तो ‘अल्लाहु अक्बर’ पढ़े और जब बुलंदी से नीचे उतरे तो ‘सुब्हानल्लाह’ कहे और जब किसी पानी बहने के नशेब में गुज़रे तो ‘ला इला-ह इल्ल-ल्लाहु वल्लाहु अक्बर’ पढ़े। अगर सवारी का पैर फिसल जाए या ऐक्सीडेंट हो जाए तो ‘बिस्मिल्लाह’ कहे। -हिस्न

यह सामग्री “Masnoon Duain with Audio” ऐप से ली गई है आप यह एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे अन्य इस्लामिक एंड्रॉइड ऐप और आईओएस ऐप देखें।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published.