सोते में डर, घबराहट या नींद उचटने पर​

sote-me-dar-ghabrahat-ya-neend-uchatne-per

सोते में डर, घबराहट या नींद उचटने पर

अऊज़ बिकलिमातिल्लाहित्ताम्मति मिन ग़-ज़बिही अ इक़ाबिही व शर्रि इबादिही व मिन ह-म-ज़ातिश्शयातीनि व अंय्य हजुरून ।

तर्जुमा- अल्लाह तआला के पूरे कलिमों के वास्ते से मैं अल्लाह के ग़ज़ब से और उसके अज़ाब और उसके बन्दों की बुराई से और शैतानों के वसवसों से और मेरे पास उनके आने से पनाह चाहता हूं। -हिस्न 

फ़ायदा- जब ख़्वाब में अच्छी बात देखे तो अल् हम्दु लिल्लाह कहे और इसे बयान कर दे, मगर उसी से कहे, जिससे अच्छे ताल्लुक़ात हों और आदमी समझदार हो (ताकि बुरा फल न बताए) और अगर बुरा ख़्वाब देखे तो अपनी बायीं तरफ़ तीन बार धुत्कार दे और करवट बदल दे या खड़ा होकर नमाज़ पढ़ने लगे और तीन बार यों कहें

अऊज़ बिल्लाहि मिनश्शैतानि र्रजीम मि व मिन शर्र हाज़ि हिर्रू अया० 

तर्जुमा- मैं अल्लाह की पनाह चाहता हूं शैतान मर्दूद से और इन ख़्वाब की बुराई से। बुरे ख्वाब को किसी से ज़िक्र न करे, ये सब अमल करने से वह ख़्वाब उसे कुछ नुक़सान न पहुंचाएगा। -मिश्कात व हिस्न 

तंबीह- अपनी तरफ़ से बना कर झूठा ख़्वाब बयान करना सख़्त गुनाह है। -बुख़ारी

यह सामग्री “Masnoon Duain with Audio” ऐप से ली गई है आप यह एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे अन्य इस्लामिक एंड्रॉइड ऐप और आईओएस ऐप देखें।

Share this: