फ़ज़ाइले कुरआन मजीद

adabe-tilawate-quran

फ़ज़ाइले कुरआन मजीद

  • क़यामत के दिन पढ़ने वाले की सिफारिश करेगा। 

  • हर हर्फ़ पर दस नेकियाँ मिलेंगी।

  • अल्लाह से नज़दीकी पैदा होती है।

  • साहिबे कुरआन से कहा जाएगा कि कुरआन मजीद पढ़ते जाओ और जन्नत में बुलन्द दरजात की तरफ बढ़ते जाओ क्योंकि उसकी मंजिल वहां तक है जहां तक वह आख़िरी आयत की तिलावत करेगा। 

  • दिल का ज़ंग दूर करेगा। 

  • कुरआन शरीफ़ पढ़ने से अल्लाह की मुहब्बत में ज्यादती होती है।

आदाबे तिलावते कुरआन पाक

  • पाक साफ़ होना।

  • बावुजू होना।

  • अदब के साथ बैठना।

  • कुरआन शरीफ़ को रेहल या साफ़ तकिये पर रखना।

  • उसकी तरफ पाँव न करना।

  • उससे ऊँची जगह न बैठना।

  • तअव्वुज़ और तस्मिय: से शुरू करना।

  • कुरआन मजीद पढ़ने के दरमियान बातें न करना।

  • अगर बातें करें तो फिर से तअव्वुज़ पढ़कर शुरू करना।

  • क़वाइद के मुताबिक ठहर-ठहर कर पढ़ना और अच्छी आवाज़ से पढ़ना।

यह सामग्री “नमाज़ का तरीक़ा” ऐप से ली गई है आप यह एंड्रॉइड ऐप और आईओएस(आईफोन/आईपैड) ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे अन्य इस्लामिक एंड्रॉइड ऐप और आईओएस ऐप देखें।

नमाज़ का तरीक़ा
Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published.