सूरह बुरूज हिंदी में

सूरह बुरूज

सूरह अल-बुरूज का मतलब “तारा” है। सूरह बुरूज कुरान करीम के 30वें पारा में 85वीं सूरह है। यह मक्की सूरह है। इस सूरत मे कुल 22 आयतें है।

सूरह बुरूज हिंदी में

अऊजुबिल्लाहिमिनशशैतानिररजीम
बिस्मिल्लाहिररहमानिररहीम

  1. वस समाइ ज़ातिल बुरूज
  2. वल यौमिल मौऊद
  3. वशा हिदिव व मशहूद
  4. क़ुतिला अस हाबुल उख्दूद
  5. अन्नारि ज़ातिल वक़ूद
  6. इज़ हुम अलैहा क़ुऊद
  7. वहुम अला मा यफ़ अलूना बिल मुअ’मिनीना शुहूद
  8. वमा नक़मू मिन्हुम इल्ला अय युअ’मिनू बिल लाहिल अज़ीज़िल हमीद
  9. अल्लज़ी लहू मुल्कुस सामावति वल अर्द, वल लाहु अला कुल्लि शैइन शहीद
  10. इन्नल लज़ीना फ़-तनुल मुअ’मिनीन वल मुअ’मिनाति सुम्म लम यतूबू फ़ लहुम अज़ाबू जहान्नमा व लहुम अजाबुल हरीक़
  11. इन्नल लज़ीना आमनू व अमिलुस सलिहाति लहुम जन्नातुन तजरी मिन तहतिहल अन्हार, ज़ालिकल फौज़ुल कबीर
  12. इन्ना बत्शा रब्बिका ल-शदीद
  13. इन्नहू हुवा युब्दिउ व युईद
  14. व हुवल ग़फूरुल वदूद
  15. जुल अरशिल मजीद
  16. फ़अ आलुल लिमा युरीद
  17. हल अताका हदीसुल जुनूद
  18. फ़िरऔना व समूद
  19. बलिल लज़ीना कफ़रू फ़ी तकज़ीब
  20. वल लाहु मिव वराइहिम मुहीत
  21. बल हुवा क़ुरआनुम मजीद
  22. फ़ी लौहिम महफूज़

सूरह बुरूज वीडियो

सूरह बुरूज तर्जुमा हिंदी में

बिस्मिल्लाहिररहमानिररहीम
शुरू अल्लाह के नाम से जो बड़ा महेरबान निहायत रहम वाला है।

  1. वस समाइ ज़ातिल बुरूज
    क़सम है बुर्जों वाले आसमान की
  2. वल यौमिल मौऊद
    और उस दिन की, जिस दिन का वादा किया गया है
  3. वशा हिदिव व मशहूद
    और मुशाहदा करने वाले की, और उसकी जिसका मुशाहदा किया जायेगा
  4. क़ुतिला अस हाबुल उख्दूद
    कि ख़ुदा की मार हो उन खंदक खोदने वालों पर
  5. अन्नारि ज़ातिल वक़ूद
    उस आग वालों पर जो ईंधन से भरी हुई थी
  6. इज़ हुम अलैहा क़ुऊद
    जब वो उस के पास बैठे हुए थे
  7. वहुम अला मा यफ़ अलूना बिल मुअ’मिनीना शुहूद
    और जो कुछ वो मुसलमानों के साथ कर रहे थे, वो उस को देख भी रहे थे
  8. वमा नक़मू मिन्हुम इल्ला अय युअ’मिनू बिल लाहिल अज़ीज़िल हमीद
    वो मुसलमानों को किसी और बात की नहीं, सिर्फ़ इस बात की सज़ा दे रहे थे कि वो उस अल्लाह पर ईमान रखते थे जो ग़ालिब और बड़ी ख़ूबियों वाले हैं
  9. अल्लज़ी लहू मुल्कुस सामावति वल अर्द, वल लाहु अला कुल्लि शैइन शहीद
    जिस के क़ब्ज़े में सारे आसमान और ज़मीन की सल्तनत है और अल्लाह हर चीज़ को देख रहा है
  10. इन्नल लज़ीना फ़-तनुल मुअ’मिनीन वल मुअ’मिनाति सुम्म लम यतूबू फ़ लहुम अज़ाबू जहान्नमा व लहुम अजाबुल हरीक़
    इस में कोई शक नहीं कि जिन लोगों ने मुसलमान मर्दों और औरतों को तकलीफ़ें दीं फिर तौबा नहीं की, तो उन लोगों के लिए जहन्नम का अज़ाब और जलने की सज़ा है
  11. इन्नल लज़ीना आमनू व अमिलुस सलिहाति लहुम जन्नातुन तजरी मिन तहतिहल अन्हार, ज़ालिकल फौज़ुल कबीर
    यक़ीनन जो लोग ईमान लाये और उन्होंने नेक अमल किये, उन के लिए (जन्नत में ) ऐसे बाग़ात हैं जिन के नीचे नहरें जारी होंगी, यही है बड़ी कामयाबी
  12. इन्ना बत्शा रब्बिका ल-शदीद
    हक़ीक़त ये है कि तुम्हारे परवरदिगार की पकड़ बहुत सख्त है
  13. इन्नहू हुवा युब्दिउ व युईद
    वही पहली मर्तबा पैदा करता है और वही दोबारा पैदा करेगा
  14. व हुवल ग़फूरुल वदूद
    और वो बहुत बख्शने वाला बहुत मुहब्बत करने वाला है
  15. जुल अरशिल मजीद
    अर्श का मालिक है बुज़ुर्गी वाला है
  16. फ़अ आलुल लिमा युरीद
    जो कुछ इरादा करता है कर गुज़रता है
  17. हल अताका हदीसुल जुनूद
    क्या तुम्हारे पास उन लश्करों की ख़बर पहुंची है
  18. फ़िरऔना व समूद
    फ़िर औन और समूद के ( लश्करों ) की ?
  19. बलिल लज़ीना कफ़रू फ़ी तकज़ीब
    इसके बावुजूद काफ़िर लोग हक़ को झुटलाने में लगे हुए हैं
  20. वल लाहु मिव वराइहिम मुहीत
    जबकि अल्लाह ने उनको घेरे में लिया हुआ है
  21. बल हुवा क़ुरआनुम मजीद
    (उनके झुटलाने से क़ुरान पर कोई असर नहीं पड़ता) बल्कि ये बड़ी अज़मत वाला क़ुरान है
  22. फ़ी लौहिम महफूज़
    जो लौहे महफूज़ में दर्ज है

सूरह बुरूज उर्दू तर्जुमा वीडियो में​

सूरह बुरूज उर्दू तर्जुमा वीडियो में​

para30_26
para30_27
para30_28
Share this:

Leave a Comment

error: Content is protected !!