सूरह फातिहा हिंदी में​

सूरह फातिहा | Surah Al-Fatihah

सूरा अल-फ़ातिहा इस्लाम की पवित्र ग्रन्थ कुरान का पहला सूरा, या अध्याय है। इसमें 7 आयतें हैं। इसमें ईश्वर के निर्देश एवं दया हेतु प्रार्थना की गई है। इस अध्याय का खास महत्व है, यह दैनिक प्रार्थना के आरम्भ में पढ़ी जाने वाली सूरा है।

अन्य नाम: उम्म अल-किताब; उम्म अल-कुरान; कुन्जी; सूरा अल-हम्द

यह सूरह आरंभिक युग मे मक्का मे उतरी है, जो कुरान की भूमिका के समान है। इसी कारण इस का नाम सूरह फातिहा अर्थात “आरंभिक सूरह“ है।

इस का चमत्कार यह है की इस की सात आयतों में पूरे कुरान का सारांश रख दिया गया है। और इस मे कुरान के मौलिक संदेश: तौहीद, रिसालत तथा परलोक के विषय को संक्षेप मे लिख दिया गया है। इस मे अल्लाह की दया, उस के पालक तथा पूज्य होने के गुणों को वर्णित किया गया है।

surah fatiha in hindi

सूरह फातिहा हिंदी में | Surah Al-Fatihah in Hindi

अऊज़ुबिल्लाही मिनस शैतानिर रजीम
बिस्मिल्लाह हिर रहमान नीर रहीम

  1. अल्हम्दु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन
  2. अर्रहमानिर्रहीम
  3. मालिकि यौमिद्दीन
  4. इय्या-क न बुदु व इय्या-क नस्तीइन,
  5. इहदिनस्सिरातल्-मुस्तकीम
  6. सिरातल्लज़ी-न अन्अम्-त अलैहिम
  7. गैरिल्-मग़जूबि अलैहिम् व लज्जॉल्लीन

सूरह फातिहा वीडियो | Surah Fatihah Video

सूरह फातिहा हिंदी में तर्जुमा | Surah Fatihah Tarjuma in Hindi

अल्लाह के नाम से जो बड़ा ही मेहरबान और रहम करने वाला है।

  1. प्रशंसा अल्लाह ही के लिए है जो सारे जहान का रब है।
  2. बड़ा ही मेहरबान और दया करने वाला है।
  3. बदला दिए जाने के दिन का मालिक है।
    हम तेरी ही बंदगी’ करते हैं और तुझी से मदद मांगते हैं।
  4. हमें सीधा मार्ग दिखा।
  5. उन लोगों का मार्ग जो तेरे कृपापात्र हुए।
  6. जो प्रकोप के भागी नहीं हुए, जो भटके हुए नहीं हैं।

सूरह फातिहा वीडियो उर्दू में तर्जुमा के साथ

Surah Fatiha in Arabic

para1 page1
Share this:

Leave a Comment

error: Content is protected !!