सूरह नूह हिंदी में​

सूरह नूह | Surah Nooh

सूरह नूह कुरान के 29वें पारा में 71वीं सूरह है। यह मक्की सूरह है। सूरह नूह में कुल 28 आयतें और कुल 2 रुकू है। 

सूरह नूह हिंदी में

अ ऊजु बिल्लाहि मिनश शैतानिर रजीम
बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम

  1. इन्ना अर् सलना नूहन् इला कौमिही’ अन् अन्ज़िर क़ौ-म-क मिन् क़ब्लि अय्यंअ्ति-यहुम् अज़ाबुन् अलीम
  2. क़ा-ल या क़ौमि इन्नी लकुम् नज़ीरूम् मुबीन
  3. अनिअ्बुदुल्ला-ह वत्त्कूहु व अतीअून
  4. यग्फिर् लकुम् मिन् जुनूबिकुम् व यु-अख्खिर् कुम् इला’अ-जलिम् मुसम्मन् इन्-न अ-ज-लल्लाहि इज़ा जा-अ ला यु-अख्खरु’लौ कुन्तुम् तअ्लमून
  5. क़ा-ल रब्बि इन्नी दऔतु क़ौमी लैलंव् व नहारन्
  6. फ़-लम् यज़िद्हुम् दुआइ’ इल्ला फ़िरारा
  7. व इन्नी कुल्लमा दऔतुहुम् लितग़्फ़ि-र लहुम् असा़बि-अ़हुम् फ़ी आज़ानिहिम् वस्तग़्शौ सि़या-बहुम् व अस़र्रू वस्तक्बरुस्तिक्बारा
  8. सुम्-म इन्नी दऔतुहुम् जिहारन्
  9. सुम्-म इन्नी अअ्लन्तु लहुम् व अस्-रर्तु लहुम् इस्रारा
  10. फ़कुल्तुस्तग्फ़िरू रब्बकुम्, इन्नहू का-न ग़फ्फ़ारंय्
  11. युर्सिलिस् समाँ-अ अ़लैकुम् मिद् रारंव्
  12. व युम्दिद्कुम् बि-अम्वालिंव् व बनी-न व यज्अ़ल् लकुम् जन्नातिंव व यज्अ़ल् लकुम् अन्हारा
  13. मा लकुम् ला तर्जु-न लिल्लाहि वक़ारा
  14. व क़द् ख़-ल-क़कुम् अत्वारा
  15. अ-लम् तरौ कै-फ़ ख़-ल-क़ल्लाहु सब्-अ़ समावातिन् ति़बाक़ंव्
  16. व ज-अ़-लल् क़-म-र फ़ीहिन्-न नूरंव् व ज-अ़-लश् शम्-स सिराजा
  17. वल्लाहु अम्ब-तकुम् मिनल्अर्ज़ि नबाता
  18. सुम्-म युअी़दुकुम् फ़ीहा व युख् रिजुकुम् इख्’राजा
  19. वल्लाहु ज-अ़-ल लकुमुल् अर्-ज़ बिसाता़
  20. लितस्लुकू मिन्हा सुबुलन् फ़िजाजा
  21. क़ा-ल नूहुर्र्ब्बि इन्नहुम् अ़सौ़नी वत्त-बअ़ु मल्लम् यजिद्हु मालुहू व व -लदुहू इल्ला ख़सारा
  22. व माँ-करू मक्’रन् कुब्बारा
  23. व क़ालू ला त-ज़रून्-न आलि-ह-तकुम् व ला त-ज़रून्-न वद्’दंव् व ला सुवाअंव्’व ला यगू़-स़ व यऊ-क़ व नस् रा
  24. व क़द् अज़ल्लू कसी़रन्ँव् ला तज़िदिज्ज़ालिमी-न इल्ला ज़लाला
  25. मिम्मा ख़ती’आतिहिम् उग्रिक़ू फ़उद्ख़िलू नारन् फ़-लम् यजिदू लहुम् मिन् दूनिल्लाहि अन्सा़रा
  26. व क़ा-ल नूहुर्र्ब्बि ल़ा त-ज़र् अ़लल्अर्जि़ मिनल् काफ़िरी-न दय्यारा
  27. इन्न-क इन्’त-जर्हुम् युज़िल्लू अ़िबा-द-क व ला यलिदू इल्ला फ़ाजिरऩ् कफ़्फ़ारा
  28. रब्बिग़्फ़िर्ली व लिवालिदय्-य व लिमन् द-ख़-ल बैति-य मुअ्मिनंव व लिल्मुअ्मिनी-न वल्मुअ्मिनाति’व ला तज़िदिज्ज़ालिमी-न इल्ला तबारा

सूरह नूह वीडियो

सूरह नूह हिंदी में

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम
अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है

  1. इन्ना अर् सलना नूहन् इला कौमिही’ अन् अन्ज़िर क़ौ-म-क मिन् क़ब्लि अय्यंअ्ति-यहुम् अज़ाबुन् अलीम
    हमने नूह को उसकी क़ौम की ओर भेजा कि “अपनी क़ौम के लोगों को सावधान कर दो, इससे पहले कि उनपर कोई दुखद यातना आ जाए।”
  2. क़ा-ल या क़ौमि इन्नी लकुम् नज़ीरूम् मुबीन
    उसने कहा, “ऐ मेरी क़ौम के लोगो! मैं तुम्हारे लिए एक स्पष्ट सचेतकर्ता हूँ,
  3. अनिअ्बुदुल्ला-ह वत्त्कूहु व अतीअून
    कि ‘अल्लाह की बन्दगी करो और उसका डर रखो और मेरी आज्ञा मानो’।-
  4. यग्फिर् लकुम् मिन् जुनूबिकुम् व यु-अख्खिर् कुम् इला’अ-जलिम् मुसम्मन् इन्-न अ-ज-लल्लाहि इज़ा जा-अ ला यु-अख्खरु’लौ कुन्तुम् तअ्लमून
    वह तुम्हें क्षमा करके तुम्हारे गुनाहों से तुम्हें पाक कर देगा और एक निश्चित समय तक तुम्हे मुहलत देगा। निश्चय ही जब अल्लाह का निश्चित समय आ जाता है तो वह टलता नहीं, काश कि तुम जानते!”
  5. क़ा-ल रब्बि इन्नी दऔतु क़ौमी लैलंव् व नहारन्
    उसने कहा, “ऐ मेरे रब! मैंने अपनी क़ौम के लोगों को रात और दिन बुलाया,
  6. फ़-लम् यज़िद्हुम् दुआइ’ इल्ला फ़िरारा
    किन्तु मेरी पुकार ने उनके पलायन को ही बढ़ाया।
  7. व इन्नी कुल्लमा दऔतुहुम् लितग़्फ़ि-र लहुम् असा़बि-अ़हुम् फ़ी आज़ानिहिम् वस्तग़्शौ सि़या-बहुम् व अस़र्रू वस्तक्बरुस्तिक्बारा
    और जब भी मैंने उन्हें बुलाया, ताकि तू उन्हें क्षमा कर दे, तो उन्होंने अपने कानों में अपनी उँगलियाँ दे लीं और अपने कपड़ों से स्वयं को ढाँक लिया और अपनी हठ पर अड़ गए और बड़ा ही घमंड किया।
  8. सुम्-म इन्नी दऔतुहुम् जिहारन्
    “फिर मैंने उन्हें खुल्लमखुल्ला बुलाया,
  9. सुम्-म इन्नी अअ्लन्तु लहुम् व अस्-रर्तु लहुम् इस्रारा
    फिर मैंने उनसे खुले तौर पर भी बातें कीं और उनसे चुपके-चुपके भी बातें कीं।
  10. फ़कुल्तुस्तग्फ़िरू रब्बकुम्, इन्नहू का-न ग़फ्फ़ारंय्
    और मैंने कहा, ‘अपने रब से क्षमा की प्रार्थना करो। निश्चय ही वह बड़ा क्षमाशील है,
  11. युर्सिलिस् समाँ-अ अ़लैकुम् मिद् रारंव्
    वह बादल भेजेगा तुमपर ख़ूब बरसने वाला,
  12. व युम्दिद्कुम् बि-अम्वालिंव् व बनी-न व यज्अ़ल् लकुम् जन्नातिंव व यज्अ़ल् लकुम् अन्हारा
    और वह माल और बेटों से तुम्हें बढ़ोतरी प्रदान करेगा, और तुम्हारे लिए बाग़ पैदा करेगा और तुम्हारे लिए नहरें प्रवाहित करेगा।
  13. मा लकुम् ला तर्जु-न लिल्लाहि वक़ारा
    तुम्हें क्या हो गया है कि तुम (अपने दिलों में) अल्लाह के लिए किसी गौरव की आशा नहीं रखते?
  14. व क़द् ख़-ल-क़कुम् अत्वारा
    हालाँकि उसने तुम्हें विभिन्न अवस्थाओं से गुज़ारते हुए पैदा किया।
  15. अ-लम् तरौ कै-फ़ ख़-ल-क़ल्लाहु सब्-अ़ समावातिन् ति़बाक़ंव्
    क्या तुमने देखा नहीं कि अल्लाह ने किस प्रकार ऊपर-तले सात आकाश बनाए,
  16. व ज-अ़-लल् क़-म-र फ़ीहिन्-न नूरंव् व ज-अ़-लश् शम्-स सिराजा
    और उनमें चन्द्रमा को प्रकाश और सूर्य को प्रदीप बनाया?
  17. वल्लाहु अम्ब-तकुम् मिनल्अर्ज़ि नबाता
    और अल्लाह ने तुम्हें धरती से विशिष्ट प्रकार से विकसित किया,
  18. सुम्-म युअी़दुकुम् फ़ीहा व युख् रिजुकुम् इख्’राजा
    फिर वह तुम्हें उसमें लौटाता है और तुम्हें बाहर निकालेगा भी।
  19. वल्लाहु ज-अ़-ल लकुमुल् अर्-ज़ बिसाता़
    और अल्लाह ने तुम्हारे लिए धरती को बिछौना बनाया,
  20. लितस्लुकू मिन्हा सुबुलन् फ़िजाजा
    ताकि तुम उसके विस्तृत मार्गों पर चलो’।”
  21. क़ा-ल नूहुर्र्ब्बि इन्नहुम् अ़सौ़नी वत्त-बअ़ु मल्लम् यजिद्हु मालुहू व व -लदुहू इल्ला ख़सारा
    नूह ने कहा, “ऐ मेरे रब! उन्होंने मेरी अवज्ञा की, और उसका अनुसरण किया जिसके धन और जिसकी सन्तान ने उसके घाटे ही में अभिवृद्धि की।
  22. व माँ-करू मक्’रन् कुब्बारा
    और वे बहुत बड़ी चाल चले,
  23. व क़ालू ला त-ज़रून्-न आलि-ह-तकुम् व ला त-ज़रून्-न वद्’दंव् व ला सुवाअंव्’व ला यगू़-स़ व यऊ-क़ व नस् रा
    और उन्होंने कहा, ‘अपने इष्ट-पूज्यों को कदापि न छोड़ो और न ‘वद्द’ को छोड़ो और न ‘सुवा’ को और न ‘यग़ूस’ और न ‘यऊक़’ और ‘नस्र’ को’।
  24. व क़द् अज़ल्लू कसी़रन्ँव् ला तज़िदिज्ज़ालिमी-न इल्ला ज़लाला
    और उन्होंने बहुत-से लोगों को पथभ्रष्ट किया है (तो तू उन्हें मार्ग न दिखा) अब, तू भी ज़ालिमों की पथभ्रष्टता ही में अभिवृद्धि कर।
  25. मिम्मा ख़ती’आतिहिम् उग्रिक़ू फ़उद्ख़िलू नारन् फ़-लम् यजिदू लहुम् मिन् दूनिल्लाहि अन्सा़रा
    वे अपनी बड़ी ख़ताओं के कारण पानी में डुबो दिए गए, फिर आग में दाख़िल कर दिए गए, फिर वे अपने और अल्लाह के बीच आड़ बननेवाले सहायक न पा सके।
  26. व क़ा-ल नूहुर्र्ब्बि ल़ा त-ज़र् अ़लल्अर्जि़ मिनल् काफ़िरी-न दय्यारा
    और नूह ने कहा, “ऐ मेरे रब! धरती पर इनकार करनेवालों में से किसी बसनेवाले को न छोड़।
  27. इन्न-क इन्’त-जर्हुम् युज़िल्लू अ़िबा-द-क व ला यलिदू इल्ला फ़ाजिरऩ् कफ़्फ़ारा
    यदि तू उन्हें छोड़ देगा तो वे तेरे बन्दों को पथभ्रष्ट कर देंगे और वे दुराचारियों और बड़े अधर्मियों को ही जन्म देंगे।
  28. रब्बिग़्फ़िर्ली व लिवालिदय्-य व लिमन् द-ख़-ल बैति-य मुअ्मिनंव व लिल्मुअ्मिनी-न वल्मुअ्मिनाति’व ला तज़िदिज्ज़ालिमी-न इल्ला तबारा
    ऐ मेरे रब! मुझे क्षमा कर दे और मेरे माँ-बाप को भी और हर उस व्यक्ति को भी जो मेरे घर में ईमानवाला बन कर दाख़िल हुआ और (सामान्य) ईमानवाले पुरुषों और ईमानवाली स्त्रियों को भी (क्षमा कर दे), और ज़ालिमों के विनाश को ही बढ़ा।”
Share this:

Leave a Comment

error: Content is protected !!