सूरह अत-तीन हिंदी में​

सूरह अत-तीन

सूरह तीन, कुरान के 30वें पारा में मौजूद 95वीं सूरह है। इस सूरह मे कुल 8 आयतें है।

सूरह अत-तीन हिंदी में

बिस्मिल्ला हिर रहमानिर रहीम

  1. वत तीनि वज़ ज़ैतून
  2. वतूरि सीनीन
  3. व हाज़ल बलादिल अमीन
  4. लक़द खलक नल इन्साना फ़ी अहसनि तक़वीम
  5. सुम्मा रदद नाहू अस्फला साफिलीन
  6. इल्लल लज़ीना आमनू व अमिलुस सालिहाति फ़लहुम अजरुन गैरु ममनून
  7. फ़मा युकज्ज़िबुका बअ’दू बिददीन
  8. अलैसल लाहू बि अह्कमिल हाकिमीन

सूरह अत-तीन वीडियो

सूरह अत-तीन का तर्जुमा हिंदी में

बिस्मिल्ला हिर रहमानिर रहीम
शुरू अल्लाह के नाम से, जो बड़ा महेरबान, रहम बाला है।

  1. वत तीनि वज़ ज़ैतून
    क़सम है इन्जीर और ज़ैतून की।
  2. वतूरि सीनीन
    और सहराए सीना के पहाड़ तूर की।
  3. व हाज़ल बलादिल अमीन
    और इस अम्नो अमान वाले शहर की।
  4. लक़द खलक नल इन्साना फ़ी अहसनि तक़वीम
    हम ने इंसान को बेहतरीन सांचे में ढाल कर पैदा किया है।
  5. सुम्मा रदद नाहू अस्फला साफिलीन
    फिर हम उसको पस्त से पस्त तर कर देते हैं।
  6. इल्लल लज़ीना आमनू व अमिलुस सालिहाति फ़लहुम अजरुन गैरु ममनून
    हाँ जो लोग ईमान लाये और नेक अमल किये तो उनको ऐसा अज्र मिलेगा जो कभी ख़त्म नहीं होगा।
  7. फ़मा युकज्ज़िबुका बअ’दू बिददीन
    फिर ए इंसान वो क्या चीज़ है जो तुझे जज़ा व सज़ा को झुटलाने पर आमादा कर रही है।
  8. अलैसल लाहू बि अह्कमिल हाकिमीन
    क्या अल्लाह सब हाकिमों से बड़े हाकिम नहीं हैं।

सूरह अत-तीन का तर्जुमा वीडियो

Surah At Tin in Arabic Images

para30_45 1
para30_46
Share this:

Leave a Comment

error: Content is protected !!